◆ अखिल असम भोजपुरी परिषद गोलाघाट जिला समिति का साधारण सभा सम्पन्न◆ ●NRC, ग्रेटर नागालिम और आगामी केंद्रीय अधिवेशन पर हुई चर्चा●

समाचार संगम कार्बी आंगलांग 19 नवम्बर :-अखिल असम भोजपुरी परिषद गोलाघाट जिला समिति का साधारण सभा आज बरपथार सार्वजनिक रंगमंच में सम्पन्न हुआ । आज दिन के 11 बजे से आयोजित उक्त सभा में सभापति का भार संभाला भोजपुरी परिषद गोलाघाट  जिला समिति के अध्यक्ष व बरपथार नगर समिति के चेयरमैन शैलेश कुमार सिंह ने। सभा मे उपस्थित अतिथियों का परिचय करवाया परिषद के केंद्रीय समिति के सांगठनिक संपादक तथा बरपथार निवाशी मनोज कुमार मिश्रा ने जबकि सभा के उद्देश्य पर प्रकाश डाला गोलाघाट  जिला सचिव सुनील गुप्ता ने। सभा मे मुख्य अतिथि के तौर पे उपस्थित रहे अखिल असम भोजपुरी परिषद के केंद्रीय अध्यक्ष परशुराम दुबे, अतिथि के तौर पे उपस्थित रहे केंद्रीय समिति के सांगठनिक सचिवमनोज कुमार मिश्रा, सहसचिव अर्जुन महतो,कोषाध्यक्ष अभिजीत सिंह, कार्बी आंगलांग जिला समिति के अध्यक्ष दिलीप कुमार चौहान, गोलाघाट जिला समिति के कार्यकारी अध्यक्ष प्रेमानंद झा, उपाध्यक्ष बबिता सिंह,बरपथार अंचल के बरिस्ट समाज सेवक बीरेंद्र दुबे के अलावा कई गणमान्य लोग। सभा मे परिषद के गोलाघाट जिले के अधीन बरपथार ,सरूपथार,नाओजान, चूंगाजान,मेरापानी,गेलाबील, बोकाजान आदि आंचलिक समिति और महिला आंचलिक समिति के प्रतिनिधिओ ने भाग लिया। सभा मे अपने संबोधन के दौरान मनोज कुमार मिश्रा ने साफ किया कि यह सभा खास कर तीन मुद्दे को लेकर बुलाया गया है जिसमे पहला है हाल ही में   विभिन्न संचार माध्यम में प्रकाशित खबर के अनुसार NRC को लेकर भोजपुरी  लोगो का भय और परिषद का इसपर प्रतिक्रिया,दूसरा ग्रेटर नागालिम में असम की भूमि सामिल होने की बात अर्थात नागा फ़्रेमवर्क समझौता ओर अंतिम केंद्रीय समिति के अधिवेशन पर चर्चा। अपने भाषण के दौरान उपस्थित वक्ताओं ने बहुत सारी बाते सवाल के तौर पे केंद्रीय अध्यक्ष दुबे के समक्ष रखा। अंत मे मुख्य अतिथि दुबे ने अपने संबोधन के दौरान लोगो के सारे सवालो का जवाब बड़े मधुर अंदाज में देते हुए उन्होंने बताया कि NRC को लेकर किसी को भयभीत होने की जरूरत नही है । असम समझौते के अधीन तैयार हो रहे इस NRC में सभी भोजपुरी लोगो का नाम शामिल होगा मगर सभी लोग सही मायने में कागजात जमा करवाये। अगर कोई कागजात जमा करवाकर NRC से वंचित होता है तो भोजपुरी परिषद को अवगत कराने का भी आह्वान किया दुबे ने। साथ ही उन्होंने साफ कर दिया कि जो लोगो किसी प्रकार के कोई कागजात देने में असमर्थ रहते है या नही देते और बाद में NRC में अपना नाम अंतर्भुक्त करना चाहते है तो वैसे लोगो का परिषद कोई मदद नही करेगा क्यों कि NRC को लेकर किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही परिषद बर्दाश्त नही करेगा। NRC को लेकर असम में रह रहे भोजपुरी समुदाय के लोगो को किसी भी प्रकार का भय नही होने की बात भी कही केंद्रीय अध्यक्ष दुबे ने। साथ ही नागा समझौते पर दुबे ने कहा कि यह एक संवेदनशील मामला है जो अभीतक साफ नही है कि आखिर उक्त नागा समझौते में क्या है? जिस वजह से उसपर साफ तौर पे कुछ नही कहा जा सकता।मगर उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि अगर असम की जमीन नागालैंड में शामिल होती है और सीमंतवर्ती अंचल के लोगो पर नागाओ का उपद्रव बढ़ता है तो भोजपुरी परिषद गणतांत्रिक आंदोलन के जरिये अपने लोगो का और असम की  जमीन सुरक्षा के लिए आंदोलन करने से भी पीछे नही आएगी। अंत मे दुबे ने अपने भाषण के दौरान लोगो को केंद्रीय समिति के अधिवेशन जो इसबार डिब्रूगढ़ जिले के मारघेरिता में होना है उसपर चर्चा की।

x

Check Also

◆पंचायती राज़ की माँग करते हुए अनशन पर बैठे अब्सू के सदस्य◆

 इन्द्रजीत शर्मा समाचार संगम, ढेकियाजुली  , 7 दिसम्बर:- शोणितपुर जिला के ढेकियाजुलि और सौतिया विधान सभा के उतरी अँचल में रह रहे लोगों को पंचायती ...