●मोरान में छत्तीसगढ़ी सांस्कृतिक सन्मिलन की व्यापक तैयारी ●मोरान में होगा स्थानीय और छत्तीसगढ़ के नेताओं का जमावड़ा●

राजु मिश्रा  

समाचार संगम,मोरानहाट, १ फरवरी :- असम छत्तीसगढ़ कला-कृष्टि परिषद डिब्रूगढ़ जिला अंतर्गत बामुनबाड़ी आंचलिक समिति के सौजन्य तथा तिलैईजान चाय बागान प्राथमिक गुट एवं स्थानीय जनता के सहयोग से तिलैईजान चाय बागान प्रेक्षागृह में आगामी 3 एवं 4 फरवरी को दो दिवसीय कार्यक्रमों के साथ छत्तीसगढ़ी सांस्कृतिक सन्मिलन के आयोजन की व्यापक तैयारियां की जा रही है । आयोजन समिति के अध्यक्ष संजीव गड़, कार्यकारी अध्यक्ष शंकर चंन्द शाहु, सचिव शिवा गड़ के अनुसार प्रथम दिन सामुहिक साफाई, ध्वजारोहण, स्मृति तर्पण, वृक्षारोपण के पश्चात तिलैईजान चाय बागान के मुख्य परिचालक दीपेन कुमार बरदलै दीप जलाकर मंच का उदघाटन करेंगे । छत्तीसगढ़ से आए अतिथियों के अभिनंदन के बाद 1.45 बजे चाबुवा के पुर्व विधायक राजु शाहु के संचालन में असम के छत्तीसगढ़ी समाज के लोक संस्कृति और छत्तीसगढ़ी के लोक संस्कृति एक तुलनात्मक विश्लेषण शीर्षक प्रथम आलोचना सत्र का आयोजन किया जाएगा, जिसका उदघाटन  । छत्तीसगढ़ रायपुर के सांस्कृतिक विशेषज्ञ अशोक तीवारी द्वारा उदघाटित सत्र में मोरान कालेज के सहायक अध्यापक आत्माराम कुमार, छत्तीसगढ़ सरकार के जनजाति कल्याण आयोग के आयुक्त जी आर राणा, पिछड़े जाती जनगोष्ठी आयोग आयुक्त शियाराम शाहु, कवि तथा चिकित्सक डा. लोहित कुमार बोरा मुख्य आलोचक के रूप में उपस्थित होंगे । साम 6 बजे दीप प्रज्ज्वलन के पश्चात आयोजित सांस्कृतिक संध्या का उदघाटन कलाकार विश्वकर्मा कुवंर करेंगे, जिसमें स्थानीय और छत्तीसगढ़ के कलाकार कार्यक्रम करेंगे । द्वितीय दिन सामुहिक साफाई के पश्चात प्रातः 9 बजे से सामाज के संस्कार में महिलाओं की जिम्मेदारी एवं कर्तव्य शीर्षक द्वितीय आलोचना चक्र का उदघाटन रायपुर आरंग महाविद्यालय की प्रवक्ता मीना बनजारे करेंगी । तिनसुकिया की शिक्षिका शकुंतला शाहु के संचालन में आयोजित चक्र में उपन्यासकार शुशीला राजवंशी के अलावा विभिन्न गणमान्य महिलाएं आलोचक के रुप में उपस्थित होंगी । 12 बजे डिब्रूगढ़ के सांसद रामेश्वर तेली के अध्यक्षता में आयोजित आम सभा का उदघाटन पुर्व मंत्री पवन सिंह घटवार करेंगे । उक्त सभा में असम और छत्तीसगढ़ के विभिन्न नेता, मंत्री तथा विधायक एवं संगठनों के प्रतिनिधि अतिथि के रूप में उपस्थित होंगे । साम को सांस्कृतिक संध्या के आयोजन से सन्मिलन का समापन होगा । परिषद के आंचलिक समिति के अध्यक्ष राजु गड़, सचिव शिवा गड़ ने आयोजन को सफल बनाने हेतु सभी के सहयोग एवं उपस्थिति की कामना की है ।