◆हिमकॉम के मयंक और यशिका बने मिस्टर और मिस फ्रेशर◆

कुमोद यादव
समाचार संगम ,नई दिल्ली :-स्वेग से करेंगे सबका स्वागत,राम चाहे लीला चाहे लीला चाहे राम, बेबी डॉल में सो लेती,जेलेबी बाई गानों पर थिरकते स्टूडेंट्स तो कभी तालियों की गड़गड़ाहट तो कभी वन्स मोर की आवाज।मौका था बुधवार को हिमकॉम इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित पत्रकारिता के नये स्टुडेंट्स के फ्रेशर्स पार्टी में दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया के ऑडिटोरियम में।जब रैंप वॉक की शुरुआत हुई तो रेड कार्पेट पर किसी की वॉक मॉडल से कम नहीं दिख रही थी।और हो भी क्यों कम जब रैंप पर जर्नलिज्म की दुनिया के स्टूडेंट जलवा बिखेर रहे हों। एक से बढ़कर एक ड्रेस, एक्सेसरी और फुटवियर के साथ स्टूडेंट बेबाकी से चल रहे थे। सभी स्टूडेंट मानो बॉलीवुड और हॉलीवुड के किरदारों में ढल चुके थे। मौका था, महफि़ल थी और कॉन्स्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया दिल्ली का कैंपस था। ये समां था बुधवार को आयोजित फ्रेशर पार्टी का जिसमें हेरिटेज इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड कम्युनिकेशन (हिमकॉम) के पत्रकारिता एवं जनसंचार के सभी स्टूडेंट ने जोर-शोर से भाग लेकर एक से बढ़कर एक आकर्षक प्रस्तुति देकर जमकर तारीफ बटोरी, जब फ्रेशर्स पार्टी में गगन प्रजापति और सुमोना दास और शिवानी शर्मा ने अपनी ग्रुप डांस किया तो सभी को झूमने पर मजबूर कर दिया। उनके डांस से पूरा परिसर तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। लोगों ने उनके ग्रुप डांस को खूब सराहा। कार्यक्रम में उस वक्त लोगों को एक नया अनुभव हुआ, जब बीएमसी फर्स्ट ईयर के मयंक दास ने स्वेग से करेंगे स्वागत गाने पर ऐसा करतब दिखाया कि इस डांस पर लोगों पर इतना असर डाला कि ‘वंस मोर’ की आवाज गूंजने लगी। इसी प्रकार कई स्टूडेंट्स की आकर्षक प्रस्तुति से परिसर में उपस्थित लोग झूम उठे।वहीं मंच संचालन कर रही हिमकॉम इंस्टिट्यूट की एचओडी भारती पांडेय ने कहा कि मैं सभी नए विद्यार्थियों का अपने हिमकॉम परिवार की ओर से स्वागत करती हूँ और आपको सर्वोत्तम संभव शिक्षण संसाधनों, व्यावहारिक अनुभव और प्रशिक्षण विधियों से लैस करने में हर संभव प्रयास करेंगे ताकि आप इस चुनौतीपूर्ण संसार में अपने जीवन और कैरियर को आकार दे सकें। वहीं संस्थान के निदेशक सैैयद मसूद ने कहा हिमकॉम सेे ऐसे सैकड़ों स्टूडेंट्स जो अच्छे मीडिया हाउस में काम कर रहे हैं जो काबिले तारीफ हैं,और नए स्टूडेन्ट को उत्साहवर्धन किया एवं उज्ज्वल भविष्य की कामना की।
वहीं इस कार्यक्रम में जज की मुख्य भूमिका निभा रही मिस इंडिया यूनिवर्स पृथ्वी 2017 की वितिका चड्डा ने यशिका ठाकुर को हिमकॉम मिस फ्रेशर 2017 की घोषणा की जबकि यशी त्रिवेदी रनर-अप रही।मिस्टर फ्रेशर मयंक कुकृति को घोषित किया तो वहीं दीपांशु भाटिया उपविजेता रहे। सुमोना दास और गगन प्रजापति को स्टार कलाकार दिया गया ।मिस्टर हैंडसम प्रतिनव वाजपेयी और मिस  इंचन्ट्रेस शिवानी शर्मा को खिताब दिया गया। वहीं इस कार्यक्रम में मैजूद इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायमूर्ति सखा राम,दिल्ली के पूर्व डीजीपी टी.आर कक्कड़, वरिष्ठ पत्रकार एस के दत्ता,वरिष्ठ पत्रकार मदन यादव,श्रीमती मिस इंडिया यूनिवर्स पृथ्वी 2107 वितिका चड्डा,सीनियर स्पोर्ट्स जॉर्नलिस्ट रविश बिस्ट, इंडिया न्यूज़  की एंकर कविता सिंह,हिमकॉम इंस्टीट्यूट के निदेशक सैयद मसूद,डीन विजय प्रकाश,एचओडी भारती पांडे, एचआर एस.एन सिंह,पब्लिक रिलेशन के (पीआर)अमित पंत ,एचसीएन न्यूज़ के सैयद फ़हीम, हिमकॉम के सैकड़ों पत्रकारिता एवं जानसंचार के छात्र-छात्राएं व कई शिक्षक और गण्यमान्य आदि लोग उपस्थित थे।

◆लालू के नाम पर ‘भभके’ सुशील मांझी के नाम पर पड़े ‘मंद’◆

समाचार संगम नेशनल डेस्क,27 नवंबर :-बिहार विधान मंडल का शीतकालीन आज से शुरू हो गया। शुक्रवार तक चलने वाले सत्र के पहले दिन दिवंगत आत्‍माओं की श्रद्धांजलि के साथ कार्यवाही कल तक के लिए स्‍थगित कर दी गयी। दोनों सदनों की कार्यवाही समाप्‍त होने के बाद परिसर में पत्रकारों से घिरे नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने एक ‘चिनगारी’ उछाल दी। इसे लपकने की होड़ पत्रकारों में लग गयी। उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार ने लालू यादव की वीवीआईपी सुरक्षा वापस ले ली है। उनके साथ कोई अनहोनी होती है तो इसके जिम्‍मेवार केंद्र और राज्‍य सरकार होगी।इस चिनगारी को उछालते हुए पत्रकार उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी के कमरे में पहुंचे और चिनगारी उनके सामने फेंक दी। इस चिनगारी से 53 विधायक वाला इंजन भभक गया और लपटें लहराने लगीं। सुशील मोदी ने कहा कि लालू यादव को किससे डर है। उनसे तो पूरा देश डरता है। नेताओं की सुरक्षा को लेकर मोदी ने कहा कि सुरक्षा व्‍यवस्‍था और श्रेणी नेताओं के लिए एस्टेटस सिंबल बन गया है। इसके साथ लालू यादव को लेकर कई अन्‍य आरोप भी मढ़े। इसी क्रम में पत्रकारों ने पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतनराम मांझी के बयान पर भी सवाल पूछ डाले। मांझी ने भी अपनी सुरक्षा श्रेणी कम किये को लेकर सवाल खड़ा किया था। मांझी के बयान पर सुशील का पारा अचानक नीचे आ गया और वे मंद पड़ गये। उन्‍होंने कहा कि नेताओं की सुरक्षा की श्रेणी केंद्र सरकार तय करती है। वही इसका मानदंड तय करती है।इससे पहले हम 71 विधायक वाले बड़े इंजन के पास पहुंचे थे। हालांकि ‘बड़का दरबार’ में हम देर से पहुंचे। काफी बातें निकल चुकी थीं और मुख्‍यमंत्री विधान सभा से जाने की तैयारी में थे। उन्‍होंने कहा कि राजगीर भी जाना है। इसके साथ दरबार ‘वाइंड अप’ हो गया। हमने अपनी पत्रिका ‘वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ की कॉपी मुख्‍यमंत्री के हाथों में दी। पत्रिका को अपने आप्‍त सचिव को देकर वे अपने कक्ष से बाहर निकल गये।हम करीब 11 बजे विधान मंडल परिसर में पहुंचे थे। रास्‍ते में घंटी सुनायी दी। हम तेजी से भागते हुए विधानसभा के प्रेस दीर्घा में पहुंचे। मुख्‍यमंत्री, उपमुख्‍यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष के साथ बड़ी संख्‍या में सदस्‍य भी सदन में मौजूद थे। करीब 20 मिनट की कार्यवाही के बाद सदन कल तक के लिए स्‍थगित कर दी गयी।

◆ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के द्वारा न्यायपालिका में महिला, एससी/एसटी और ओबीसी जजों की कम संख्या पर चिंता जायज– जीतन राम मांझी◆

समाचार संगम नेशनल डेस्क,पटना 26 नवंबर:- हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (से0) के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने देश के  महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के द्वारा न्यायपालिका में महिला एससी/एसटी और ओबीसी जजों की कम संख्या पर उनकी चिंताको जायज ठहराते हुए उनका समर्थन किया है |श्री मांझी ने लोअर कोर्ट हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में कुल 17 हजार जज हैं इनमें महिलाएं सिर्फ 4700 हैं हालात सुधारने की दिशा में फौरन कदम उठाने की सलाह राष्ट्रपति महोदय द्वारा सराहनीय कदम है एससी एसटी कमीशन के मुताबिक 2018 में देश के 123 हाईकोर्ट में 850 जजों में सिर्फ 24 जज एससी/सटी थे | 14 हाईकोर्ट में एक भी एससी/एसटी जज नहीं था | सुप्रीम कोर्ट ने 2015 में उत्तराखंड के जिला जज कांता प्रसाद की कोर्ट में आरक्षण की अर्जी खारिज की थी | कहा था कि सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट समानता के सिद्धांत पर काम करते हैं |श्री मांझी ने कहा कि इन सभी विषयों पर महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी का चिंता जायज है हम उनके इन बातों का समर्थन करते हैं | इन विषयों पर विशेष पहल होनी चाहिए |(प्रेस विज्ञप्ति)

◆ गरीब भूमिहीनों को बसाने के लिए युवा शक्ति ने समाहरणालय से किया महा आंदोलन का आगाज◆

समाचार संगम नेशनल डेस्क,24 नवंबर :- आज दिनांक 24/11/17 को मुजफ्फरपुर समाहरणालय परिसर में मुजफ्फरपुर सिकंदरपुर मोतीपुर काँटी के गरीब भूमिहीनों को पक्का मकान दिलाने के लिए युवा संघर्ष शक्ति के गरीब भूमिहीन संघर्ष समिति के बैनर तले एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया धरना प्रदर्शन की अध्यक्षता गरीब भूमिहीन संघर्ष आंदोलन समिति के अध्यक्ष धर्मचंद्र यादव ने की । अध्यक्षता करते हुए धर्मचंद्र यादव ने कहा अगर इन गरीब भूमिहीनों को बसाने के लिए पक्का मकान और जमीन नहीं दिया गया एवं भू माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं की गई तो जिला प्रशासन और भूमाफियाओं के गठजोड़ के खिलाफ चरणबद्ध आंदोलन युवा संघर्ष शक्ति की जारी रहेगी इस आंदोलन को लेकर मुजफ्फरपुर जिले के विधायक माननीय सुरेश शर्मा नगर विकास मंत्री के घर का घर का घेराव किया जाएगा अब वह बिहार सरकार के नगर विकास एवं आवासस मंत्री हैं । जब वे विधयाक थे तो सिकंदर पुर एवं मुज़फ़्फ़रपुर के गली गली घूमकर हर गरीबो का पक्का मकान दिलबाने का वादा किया जिसे आज वो भूल गय हैं हम उसे होने नही देगें । इस महा आंदोलन को अपना समर्थन देते हुए वाई एस एस व्यवसाय मंच जिला जिला अध्यक्ष रोशन कुमार विक्की ने कहा कि हमारे मुजफ्फरपुर जिले के गरीब फुटपाथी व्यवसाय को जब तक उनका हक नहीं मिलेगा उनका पंजीयन नहीं होगा तब तक उन्हें स्वाभिमान की जिंदगी नहीं मिलेगी इसलिए हर हाल में जिला प्रशासन को जो फुटपाथी व्यवसाइयों का अधिकार है उसे देना होगा और माननीय नगर विकास मंत्री को इस मामले में हस्तक्षेप करनी होगी अगर व्यवसाय ओके हक की हकमारी होगी मुजफ्फरपुर जिले में बैंक रंगदारी करेगी तो बैंकों की रंगदारी हम होने नहीं देंगे वही महाधरना को अपना समर्थन देते हुए झाँसी की रानीरेजमेंट की अध्यक्ष सुमित्रा देवी ने कहा कि गरीबों की लड़ाई में हमारी महिला शक्ति हमेशा से बढ़-चढ़कर आगे रही है और हमारी संगठन से जुड़ी सभी महिला को सरकार की गलत नीति के कारण उसे घर से बेघर करने का बड़ा साजिश रची जा रहा है यह साजिश को हम पूरा नहीं होने देंगे इसी के लिए आज युवा संघर्ष शक्ति जो इस महा आंदोलन का आगाज किया है उस आंदोलन को मैं अपने झाँसी की रानीरेजमेंट इकाई की ओर से पूरा समर्थन करती हूं । जिलाधिकारी से लेकर नगर विकास मंत्री को चेतावनी देती हूं कि अभी सभी मांगों को मानकर गरीबों की हक की आवाज को सुने अन्यथा मुजफ्फरपुर जिले के लिए एक विकराल आंदोलन खड़ा होगी जिसकी पूरी जवाबदेही जिला प्रशासन की होगी । प्रदेश प्रवक्ता दिलजीत गुप्ता ने कहा की हम गरीबों के हक दिलाने के लिए कृतसनकलिप्त है शरक से लेकर शरक तक आंदोलन जारी रखेंगे जब तक मांगे मानी नही जाती । धरना प्रदर्शन में झाँसी की रानीरेजमेंट की जिला अध्यक्ष कंचन कुमारी सिकंदरपुर विकास संघर्ष समिति के अध्यक्ष चानो देवी बजरंगी कुमार मंजू देवी प्रमोद कुमार भुट्टा राय , मनोज सहनी कलावती देवी , बिट्टू कुमार, रेहान रजा , रूपेश पांडे , सशीभूसन सत्या, अक्षय कुमार , सहित सैकड़ों कार्यकर्ता एवं गरीब भूमिहीन परिवार मैजूद थे ।

*हम चले गांव की ओर कार्यक्रम का आयोजन*

समाचार संगम नेशनल डेस्क,24 नवंबर :- भारतीय जनता पार्टी प0 सिंहभूम   ने अनुसूचित जनजाति मोर्चा के बैनर तले हम चले गांव की ओर कार्यक्रम का आयोजन किया । कार्यक्रम का शुभारंभ सांसद के टुंगरी स्थित  कार्यालय से किया गया । कार्यक्रम का नेतृत्व करते हुए प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद लक्ष्मण गिलुवा ने कहा हम चले गांव की ओर कार्यक्रम को भगवान बिरसा मुंडा के जयंती 15 नवंबर को जन्मस्थली खूंटी जिला के उलिहातू से किया गया था जो पूरे एक महीना  झारखंड के सभी जिलों में चल रहा है जिसका समापन 16 दिसंबर को होगी ।भगवान बिरसा मुंडा के बताए रास्ते पर चल कर एवं उनकी जीवनी से प्रेरणा लेकर कार्य करना है । आज केन्द्र व राज्य की सरकार 70 वर्षो का विकास 3 वर्षो में कर दिखाया है । हमारा राज्य आज तेजी से विकास की ओर अग्रसर है ।                    पदयात्रा के दौरान शहीद राम भगवान केरकेट्टा , स्वर्गीय राधे सुमबरुई , महात्मा गांधी एवं शहीद स्मारक पे पुष्पांजलि अर्पित करते हुए लुपुंगुटु में समापन हुआ । जिलाध्यक्ष दिनेश चंद्र नंदी ने अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राम कुमार पाहन , भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष सह कोल्हान प्रभारी समीर उरांव ,  अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक बड़ाइक , अनुसूचित जनजाति मोर्चा के महामंत्री बिंदेस्वर उरांव , अनुसूचित जनजाति मोर्चा कोल्हान प्रमंडल प्रभारी आशीष बारला का स्वागत किया । इस मौके पर मुख्य रूप से झारखण्ड अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष अशोक षाड़ंगी , पूर्व विधायक गुरुचरण नायक , अनुसूचित जनजाति मोर्चा जिलाध्यक्ष शिवा बोदरा , जिला महामंत्री चुम्बरू चतोम्बा , रतन बोदरा , जिला उपाध्यक्ष बिपिन पूर्ती , अमित जयसवाल , दिनेश यादव , संजय अखाड़ा , ब्राजील सुंडी , रघु हेस्सा , मांगता गोप , सुभाष पाडिया , ब्रजमोहन चतोम्बा , मडुसुदन तुबिड , बाबूराम लागुरी , रघु गोप , सचिन पूर्ती , चंद्र मोहन तिउ , चुम्बरू बारी , अमृत हेम्ब्रम , साधो कलुण्डिया , दिनेश मुंडा आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे ।

चुनाव आयोग का चैलेंज,ईवीएम से छेडखानी करके दिखाओ

ईवीएम की विश्वसनीयता पर शक करने वालों को चुनाव आयोग ने खुली चुनौती दी है। चुनाव आयोग ने कहा है कि वे आएं और ये साबित करके दिखाएं कि ईवीएम में छेडछाड की जा सकती है। चुनाव आयोग ने ऎलान किया है कि मई महीने के शुरूआत में ईवीएम हैकिंग का दावा करने वाले लोग आएं और मशीन में बदलाव करके दिखाएं।यह चुनौती 10 दिन तक खुली रहेगी इसके लिए चुनाव आयोग एक कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। इससे पहले चुनाव आयोग की टीम सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेगी और डेमो देकर उन्हें समझाएगी कि ईवीएम में फेरबदल करना संभव नहीं है। हालांकि इसके लिए अभी निश्चित तारीख का ऎलान नहीं हो पाया है।चुनाव आयोग के सूत्रों के हवाले से खबर है कि आयोग राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों को इस ओपेन चैलेंज में बुलाएगा। इन प्रतिनिधियों के अलावा चुनाव आयोग उन लोगों को भी बुलाएगा जो टेक्नॉलोजी के बारे में अच्छे से जानते हैं। साथ ही उन लोगों और संगठनों को भी बुलाया जाएगा जिन्होंने व्यक्तिगत तौर पर ईवीएम के साथ छेडछाड की शिकायत की है।

साक्षी मलिक,संजीव कपूर,जोशी,पवार सहित 89 को पद्म सम्मान

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्यो के लिये पद्म सम्मान से चयनित 89 लोगों को पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री सम्मान से नवाजा। राष्ट्रपति भवन में गुरूवार को आयोजित समारोह में मुखर्जी ने खिलाडी दीपा कर्माकर और साक्षी मलिक से लेकर शैफ संजीव कपूर तक ज्ञान, विज्ञान, साहित्य, संगीत और कला सहित विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य के लिये सर्वोच्च नागरिक सम्मान के तौर पर दिये जाने वाले पद्म पुरस्कारों से सम्मानित किया। इस श्रेणी में अप्रतिम और उत्कृष्ट सेवाओं के लिये हर साल दिये जाने वाले सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिये इस साल सात लोगों को चुना गया था। मुखर्जी ने इस श्रेणी के तहत सार्वजनिक जीवन में उल्लेखनीय योगदान के लिये वरिष्ठ राजनेता मुरली मनोहर जोशी और शरद पवार को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जबकि इसी श्रेणी में पीए संगमा और सुंदर लाल पटवा को मरणोपरांत पद्म विभूषण से नवाजा गया।कला और संगीत के क्षेत्र में केजे यशुदास, विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रो उडिपि रामचंद्र राव और आध्यात्म के क्षेत्र में अप्रतिम उत्कृष्ट सेवाओं के लिये सदगुरू जग्गी वासुदेव को पद्म विभूषण से सम्मानित किया।

पैन को आधार से लिंक करने की प्रक्रिया सरल बनाएगा आयकर विभाग

नई दिल्ली: आधार कार्ड को पैन कार्ड से लिंक करने के सरकारी एलान के बाद बडी तादाद में लोग उलझन में हैं। दरअसल, दोनों कार्ड के डिटेल्स में कोई भी अंतर होने पर ये काम नहीं हो पा रहा है। ऎसे में अब इनकम टैक्स विभाग आधार को पैन से जोडने की प्रक्रिया आसान बनाने जा रहा है। बडे पैमाने पर ऎसे लोग हैं, जिनके आधार और पैन डिटेल्स में अंतर है, और वो इन्हें लिंक नहीं कर पा रहे हैं। ऎसे में आयकर विभाग ने कहा है कि अब लोग अपने पैन कार्ड की एक स्कैन कॉपी देकर भी आधार लिंक कर सकेंगे। हालांकि इसका फायदा सिर्फ उन्हें मिलेगा, जिनके नाम की स्पेलिंग में अंतर होगा। आयकर विभाग ये व्यवस्था भी करने जा रहा है कि ई-फाइलिंग पोर्टल पर टैक्सपेयर्स को आधार जोडने का विकल्प दिया जाए। इसमें उन्हें बिना अपना नाम बदले वन टाइम पासवर्ड यानी ओटीपी का ऑप्शन चुनना होगा। इसके बाद उन्हें अपने दोनों दस्तावेजों यानी आधार कार्ड और पैन कार्ड में दर्ज जन्मतिथि बतानी होगी और मोबाइल फोन पर आए ओटीपी को डालना होगा। अगर जन्मतिथि में कोई अंतर नहीं होगा तो आधार से पैन कार्ड जुड जाएगा।

निर्वाचन आयोग 2019 तक 16,15,000 वीवीपैट मशीनें खरीदेगा

भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने कहा है कि वह 2019 तक केंद्र सरकार के स्वामित्व वाली दो कंपनियों, बेल (बीईएल) और ईसीआईएल से 16,15,000 वोटर वैरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) मशीनें खरीदेगा। रविवार को जारी एक आधिकारिक वक्तव्य में यह घोषणा की गई। निर्वाचन आयोग द्वारा खरीदी जाने वाली इन वीवीपैट मशीनों की अनुमानित कीमत 3,173.47 करोड़ रुपये है। भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) और इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ईसीआईएल) के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशकों को 21 अप्रैल को भेजे गए पत्र के अनुसार, निर्वाचन आयोग ने हर पीएसयू से 8,07,500 वीवीपैट की खरीदारी की इच्छा जाहिर की है। इस बयान में कहा गया, ‘‘यह वीवीपैट दोनों पीएसयू द्वारा तकनीकी विशेषज्ञों की इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों की समिति की सिफारिश के अनुसार अनुमोदित डिजाइन के तहत निर्मित किए जाएंगे।’’

चुनाव आयोग दो साल में खरीदेगा 16 लाख पेपर ट्रेल युक्त EVM

नई दिल्ली:  ईवीएम मशीनों के लिए अगले दो साल में 16 लाख पेपर ट्रेल मशीनों की खरीद की चुनाव आयोग ने पूरी तैयारी कर ली है। इन मशीनों का इस्तेमाल वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में सभी मतदान केंद्रों पर किया जाएगा। आयोग ने सार्वजनिक उपक्रमों ईसीआईएल और बीईएल को इस संबंध में शुक्रवार को आशय पत्र जारी किया। इससे दो दिन पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 3,173.47 करोड रूपए की अनुमानित लागत से 1615000 वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) इकाइयों की खरीद के आयोग के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। चुनाव आयोग ने उन्हें सूचित किया कि मशीनों की खरीद वर्ष 2017-18 और 2018-19 में की जाएगी। आयोग दोनों विनिर्माताओं से सितंबर, 2018 तक प्रति विनिर्माता 8,07,500 पेपर ट्रेल मशीनें खरीदेगा। चुनाव आयोग ने कहा कि ईसीआईएल और बीईएल को 16 लाख वीवीपीएटी का विनिर्माण में 30 माह लगेंगे। इस कदम के महत्व के बारे में मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा कि इससे पारदर्शिता बढेगी और मतदाता का यह जानने का अधिकार कायम रहेगा कि उसने किस पार्टी को मत दिया है। इससे मतदाताओं का निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव में भरोसा बढेगा। चुनाव निगरानी संस्था ने एक वक्तव्य में कहा कि इन मशीनों का निर्माण दोनों सार्वजनिक उपक्रम करेंगे।